Adani Wilmar IPO: अदानी विल्मर आईपीओ 8 फरवरी को आईपीओ की लिस्टिंग, जीएमपी में कमी से कमाई की उम्मीद

Adani Wilmar IPO: अदानी विल्मर आईपीओ के जीएमपी में लगातार गिरावट के साथ, मंगलवार की लिस्टिंग के दौरान बहुत पैसा बनाने की संभावना अब कम है। पिछले चार दिनों से जीएमपी में गिरावट का रुख है।

Adani Wilmar IPO: अदानी विल्मर आईपीओ 8 फरवरी को आईपीओ की लिस्टिंग

अदानी विल्मर आईपीओ (Adani Wilmar IPO) यह कल यानि 8 फरवरी को लिस्ट होने जा रहा है। लिस्टिंग से एक दिन पहले शेयर बाजार में गिरावट देखने को मिल रही है। सेंसेक्स और निफ्टी दोनों दबाव में हैं। निफ्टी 200 अंक नीचे है। दरअसल पिछले 4 दिनों से शेयर बाजार में गिरावट का रुख बना हुआ है. अदानी विल्मर के आईपीओ के ग्रे मार्केट प्रीमियम (जीएमपी) पर भी असर देखने को मिल रहा है। उम्मीद की जा रही थी कि आज अदानी विल्मर के जीएमपी में सुधार होगा। लेकिन आज भी गिरावट जारी है।

GMP में गिरावट से आय की उम्मीदें कम होती हैं

अदाणी विल्मर के आईपीओ से निवेशकों को काफी उम्मीदें हैं। लेकिन घटते जीएमपी से लोग निराश हैं, अगर बाजार इस तरह प्रतिक्रिया करता है तो मंगलवार को निवेशक निराश हो सकते हैं। आंकड़ों के मुताबिक, सोमवार को ग्रे मार्केट में अदाणी विल्मर के शेयर 28 रुपये के प्रीमियम पर कारोबार कर रहे थे। आपको बता दें, रविवार को भी अदानी विल्मर के आईपीओ का जीएमपी सिर्फ रु. ऐसे में कल बड़ी बढ़त यानि लिस्टिंग में बड़ी बढ़त की उम्मीद कम ही है। अब सबकी निगाह कल इसकी लिस्टिंग पर होगी।

जीएमपी में गिरावट की बात करें तो अदाणी समूह की सहायक कंपनी अदाणी विल्मर के आईपीओ का जीएमपी शनिवार को 30 रुपये था। जबकि तीन दिन पहले जीएमपी 45 रुपये था। इतना ही नहीं एक समय कंपनी को ग्रे मार्केट में 100 रुपये से ज्यादा का प्रीमियम मिल रहा था।

अदाणी विल्मर का आईपीओ 27 जनवरी को खुला और 31 जनवरी को बंद हुआ। इसे 17 गुना से ज्यादा सब्स्क्राइब किया गया था। कंपनी ने आईपीओ से पहले एंकर निवेशकों से 940 करोड़ रुपये जुटाए थे। इस आईपीओ का प्राइस बैंड 218 रुपये से 230 रुपये तय किया गया था। कंपनी इस इश्यू से 3,600 करोड़ रुपये जुटाने में कामयाब रही है।

कंपनी के मुख्य उत्पाद

अदानी विल्मर के खाद्य तेल में कई उत्पाद हैं। फॉर्च्यून ऑयल पसंद का घर है। इसके अलावा, कंपनी चावल, सोयाबीन, चने का आटा, बीन्स, सब्जियां, दलिया, साबुन, आटा, चीनी सहित दर्जनों उत्पाद बनाती है। अधिकांश उत्पाद फॉर्च्यून शाखा के नाम से आते हैं। इसका खाद्य तेल बाजार में देश का सबसे बड़ा वितरण नेटवर्क है। इसका खाद्य तेल बाजार में देश का सबसे बड़ा वितरण नेटवर्क है।

इसके उत्पाद देश भर में लगभग 1.5 मिलियन रिटेल आउटलेट्स पर उपलब्ध हैं। सेहत को ध्यान में रखते हुए कंपनी ने खास ऑयल राइस ब्रांड और वीवो लॉन्च किए हैं। जबकि कंपनी का अन्य खाद्य तेल ब्रांड रूपचंदा बांग्लादेश में मार्केट लीडर है। कंपनी की वहां दो बड़ी रिफाइनरियां भी हैं।

Source link

Click to rate this post!
[Total: 0 Average: 0]

Leave a Comment