Anil Ambani ने रिलायंस पावर के लिए 1,325 करोड़ रुपये जुटाने के लिए कर्ज घटाने की नई योजना की योजना बनाई है

अनिल अंबानी की रिलायंस पावर लिमिटेड के बोर्ड ने अपने प्रमोटर रिलायंस इंफ्रास्ट्रक्चर लिमिटेड को कुल 1,325 करोड़ रुपये में 59.5 करोड़ तरजीही शेयर और 73 करोड़ रुपये का वारंट जारी करने के प्रस्ताव को मंजूरी दे दी है।

अनिल अंबानी की रिलायंस पावर लिमिटेड के बोर्ड ने अपने प्रमोटर रिलायंस इंफ्रास्ट्रक्चर लिमिटेड को कुल 1,325 करोड़ रुपये में 59.5 करोड़ तरजीही शेयर और 73 करोड़ रुपये का वारंट जारी करने के प्रस्ताव को मंजूरी दे दी है। रिलायंस पावर ने शेयर बाजार को यह जानकारी दी।

रिलायंस पावर ने कहा कि उसके निदेशक मंडल ने सूचीबद्ध कंपनी रिलायंस इंफ्रास्ट्रक्चर को 10 रुपये के निर्गम मूल्य पर वरीयता के आधार पर 59.5 करोड़ इक्विटी शेयर और 73 करोड़ रुपये तक के वारंट जारी करने की अनुमति दी है।

घटेगा रिलायंस पावर का कर्ज

स्टॉक एक्सचेंज के मुताबिक, इससे रिलायंस पावर का कर्ज 1,325 करोड़ रुपये कम होगा। 2021-22 में रिलायंस पावर के कुल कर्ज में 3,200 करोड़ रुपये की गिरावट आएगी।

नए शेयर जारी होने के बाद रिलायंस इंफ्रास्ट्रक्चर और अन्य प्रमोटरों की रिलायंस पावर में 25 फीसदी हिस्सेदारी होगी और वारंट शेयरों के रूपांतरण के बाद 38 फीसदी हिस्सेदारी होगी।

कंपनी ने घाटे से मुनाफा कमाया


मार्च 2021 को समाप्त तिमाही में रिलायंस पावर को 72.56 करोड़ रुपये का समेकित शुद्ध लाभ हुआ था। कंपनी ने मार्च 2020 को समाप्त तिमाही में 4,206.38 करोड़ रुपये का समेकित शुद्ध घाटा दर्ज किया था।

अनिल अंबानी और रिलायंस इंफ्रा के सीईओ के लिए यह बड़ी राहत की बात है कि कंपनी 4,206 करोड़ रुपये के नुकसान से निकलकर 72 करोड़ रुपये का मुनाफा दिखा रही है।

रिलायंस पावर ने इस अवधि के दौरान मुनाफे के साथ-साथ राजस्व में भी वृद्धि देखी है। इस साल मार्च तिमाही में कंपनी का कुल राजस्व 1,691.19 करोड़ रुपये था। इसने एक साल पहले इसी अवधि में 1,902.03 करोड़ रुपये कमाए थे।

वित्त वर्ष 2020-21 के लिए कंपनी का समेकित शुद्ध लाभ 2019-20 में 4,076.59 करोड़ रुपये के मुकाबले 228.63 करोड़ रुपये रहा। वर्ष 2020-21 में कंपनी का कुल राजस्व 8,388.60 करोड़ रुपये था, जो कि रु। 8,202.41 करोड़।

Leave a Comment