LIC Policy Facts: क्या है सोशल मीडिया में वायरल LIC Kanyadan Policy का सच? एलआईसी का जवाब जाने

LIC Policy Facts: भारतीय जीवन बीमा निगम को इस सप्ताह सेबी से आईपीओ के माध्यम से धन जुटाने की अनुमति मिली है। सेबी के पास दायर रेड हेरिंग प्रॉस्पेक्टस के मसौदे के मुताबिक, सरकार एलआईसी इश्यू के जरिए 31 करोड़ से ज्यादा इक्विटी शेयरों की पेशकश करेगी।

LIC Kanyadan Policy

LIC Policy Facts: सोशल मीडिया इन दिनों एक मैसेज लगातार वायरल हो रहा है. वायरल मैसेज में दावा किया गया है कि देश की सबसे बड़ी सरकारी बीमा कंपनी LIC भारतीय जीवन बीमा निगम एलआईसी कन्यादान पॉलिसी (LIC Kanyadan Policy) लाया गया है।

इस पॉलिसी में प्रतिदिन 130 रुपये से कम निवेश करके आप अपनी बेटी की शादी तक 27 लाख रुपये का बड़ा फंड बना सकते हैं। वहीं अगर आप इस स्कीम में निवेश करते हैं तो आपको इनकम टैक्स में छूट का भी फायदा मिलता है।

इस तथ्य की जांच में हमने पाया कि एलआईसी कन्यादान पॉलिसी (LIC Kanyadan Policy) के नाम पर एलआईसी पॉलिसी नहीं है। एलआईसी इस नाम से कोई पॉलिसी नहीं लेकर आई है। एलआईसी ने ट्विटर के जरिए एलआईसी पॉलिसी खरीदारों को इस बारे में चेतावनी दी है।

एलआईसी ने एक नोटिस जारी कर कहा है कि “ऑनलाइन या डिजिटल प्लेटफॉर्म पर कुछ गलत और भ्रामक जानकारी है जिसमें कहा गया है कि एलआईसी ‘कन्यादान पॉलिसी’ पेश कर रही है।

एलआईसी स्पष्ट करना चाहता है कि कंपनी इस नाम से कोई पॉलिसी नहीं दे रही है। https://licindia.in/ एक लिंक साझा किया जिस पर किसी भी एलआईसी उत्पादों की सूची देखी जा सकती है।

अगर कोई बीमा एजेंट आपसे “LIC Kanyadan Policy” पॉलिसी में निवेश करने की बात कर रहा है या धोखा दे रहा है, तो सावधान हो जाएं।

यदि एलआईसी के पास कन्यादान पॉलिसी के बारे में कोई संदेश है, तो उसे प्राथमिकता न दें क्योंकि एलआईसी इस नाम से कोई पॉलिसी बेचने की पेशकश नहीं कर रहा है।

सेबी द्वारा स्वीकृत एलआईसी आईपीओ

भारतीय जीवन बीमा निगम को इस सप्ताह सेबी से आईपीओ के माध्यम से धन जुटाने की अनुमति मिली है। सेबी के पास दायर रेड हेरिंग प्रॉस्पेक्टस के मसौदे के मुताबिक, सरकार एलआईसी इश्यू के जरिए 31 करोड़ से ज्यादा इक्विटी शेयरों की पेशकश करेगी।

आईपीओ का एक हिस्सा एंकर निवेशकों के लिए आरक्षित होगा। इसके अलावा, एलआईसी आईपीओ इश्यू के आकार के 10% तक पॉलिसीधारकों के लिए आरक्षित होगा। आईपीओ भारत सरकार द्वारा बिक्री के लिए एक प्रस्ताव है,

और इश्यू द्वारा कोई नया शेयर जारी नहीं किया जाएगा, यानी इश्यू से पूरी आय सरकार के पास जाएगी। यह इश्यू भारतीय शेयर बाजार के इतिहास का सबसे बड़ा आईपीओ होगा।

ऐसा अनुमान है कि इश्यू के साथ एलआईसी बाजार मूल्य के मामले में देश की शीर्ष 3 कंपनियों में आसानी से शामिल हो सकती है और तेजी की स्थिति में यह आसानी से आरआईएल को पछाड़ सकती है।

Click to rate this post!
[Total: 0 Average: 0]

Leave a Comment