ये ग्राहक अब नहीं खरीद सकते नई सिम, जानें सरकार के नए नियम की पूरी जानकारी

New Telecom Reforms: दूरसंचार विभाग ने इसके लिए एक नए आदेश की घोषणा की है। सरकार का यह कदम उपभोक्ताओं के हित में है।

इसका सीधा फायदा लाखों उपभोक्ताओं को होगा। जानिए संशोधित नियम से आपको क्या-क्या फायदे होंगे।

मोबाइल ग्राहक सरकार सिम कार्ड के लिए अहम खबर लेकर आई है। इस नए नियम के तहत कुछ ग्राहकों के लिए नया मोबाइल कनेक्शन लेना आसान हो गया है।

लेकिन कुछ ग्राहकों को अब नई सिम नहीं मिलेगी। ग्राहक अब नए मोबाइल कनेक्शन के लिए ऑनलाइन आवेदन कर सकेंगे और इतना ही नहीं सिम कार्ड अब उनके घर पहुंच जाएगा.

सरकार का यह कदम उपभोक्ताओं के हित में है। इसका सीधा फायदा लाखों उपभोक्ताओं को होगा। जानिए संशोधित नियम से आपको क्या-क्या फायदे होंगे।

18 साल से कम उम्र के ग्राहकों को नहीं मिलेगी सिम

सरकारी नियमों के मुताबिक, कंपनी अब 18 साल से कम उम्र के ग्राहकों को नए सिम नहीं बेच सकेगी। दूसरी ओर, 18 वर्ष से अधिक आयु के ग्राहक अपने नए सिम या डिजिलॉकर में संग्रहीत किसी दस्तावेज़ के समर्थन से स्वयं को सत्यापित कर सकते हैं।

दूरसंचार विभाग ने इसके लिए आदेश जारी किया है। DoT का यह कदम 15 सितंबर, 2021 को कैबिनेट द्वारा अनुमोदित दूरसंचार सुधार का हिस्सा है।

केवाईसी 1 रुपये में होगा

घोषित किए गए नए आदेश के नियमों के अनुसार, यूआईडीएआई की आधार आधारित ई-केवाईसी सेवा के माध्यम से नए मोबाइल कनेक्शन के प्रमाण पत्र के लिए उपयोगकर्ताओं को केवल 1 रुपये का भुगतान करना होगा।

इन यूजर्स को नहीं मिलेगी नई सिम

दूरसंचार विभाग के नए नियमों के तहत कंपनी अब 18 साल से कम उम्र के यूजर्स को सिम कार्ड नहीं बेच सकेगी।

इसके अलावा यदि कोई व्यक्ति मानसिक रूप से बीमार है तो ऐसे व्यक्ति को नया सिम कार्ड जारी नहीं किया जा सकता है।

इन नियमों का उल्लंघन कर अगर ऐसे व्यक्ति को सिम बेची जाती है तो सिम बेचने वाली टेलीकॉम कंपनी दोषी मानी जाएगी।

सरकार ने कानून में संशोधन किया

सरकार ने प्रीपेड को पोस्टपेड में बदलने के लिए एक नए वन टाइम पासवर्ड (ओटीपी) आधारित प्रक्रिया के आदेश की घोषणा की है।

सरकार ने नए मोबाइल कनेक्शन जारी करने के लिए आधार-आधारित ई-केवाईसी प्रक्रिया को फिर से शुरू करने के लिए जुलाई 2019 में भारतीय टेलीग्राफ अधिनियम, 1885 में संशोधन किया।

घर बैठे सिम कार्ड प्राप्त करें

अब नए नियम के तहत ग्राहक यूआईडीएआई आधारित वेरिफिकेशन के जरिए अपने घर पर ही सिम प्राप्त कर सकेंगे।

डीओटी ने अपने आदेश में कहा कि ग्राहकों को एप/पोर्टल आधारित प्रक्रिया के जरिए मोबाइल कनेक्शन मुहैया कराया जाएगा, जिसमें ग्राहक घर बैठे मोबाइल कनेक्शन के लिए आवेदन कर सकेंगे।

ग्राहकों को मिलेगी सुविधा

पहले, ग्राहकों को नए मोबाइल कनेक्शन के लिए केवाईसी प्रक्रिया से गुजरना पड़ता था या मोबाइल कनेक्शन को प्रीपेड से पोस्टपेड में बदलना पड़ता था।

इसके लिए ग्राहकों को अपनी पहचान और पते के सत्यापन दस्तावेजों के साथ दुकान पर जाना था।

Click to rate this post!
[Total: 0 Average: 0]

Leave a Comment