WhatsApp को मिली छूट, अब बढ़ेंगे UPI यूजर्स, Phone Pe और Google Pay में होगी टक्कर

नेशनल पेमेंट्स कॉरपोरेशन ऑफ इंडिया ने बुधवार को व्हाट्सएप को 10 करोड़ यूजर्स तक पहुंचने की इजाजत दे दी। इस मंजूरी के बाद वॉट्सऐप अपने यूजर बेस में छह करोड़ नए यूजर्स जोड़ सकेगा।

व्हाट्सएप (WhatsApp) मेटा और व्हाट्सएप दोनों यूजर्स के लिए अच्छी खबर है। अब तक व्हाट्सएप ने अपने भुगतान किए हैं (व्हाट्सएप पे) सेवा केवल कुछ उपयोगकर्ताओं तक पहुंचने में सक्षम थी,

लेकिन अब इसे अपने व्यवसाय का विस्तार करने या उपयोगकर्ता आधार कहने के लिए हरी बत्ती मिल गई है। भारतीय राष्ट्रीय भुगतान निगम बुधवार को व्हाट्सएप को 10 करोड़ यूजर्स तक पहुंचने की इजाजत दे दी।

आपको बता दें कि इस मंजूरी के बाद WhatsApp अपने यूजर बेस में 60 मिलियन नए यूजर्स जोड़ सकेगा, जिससे उसके बिजनेस में तेजी आएगी, साथ ही ज्यादा यूजर्स को WhatsApp पेमेंट्स के जरिए एक-दूसरे को पेमेंट करने की सुविधा मिलेगी।

अभी तक WhatsApp पेमेंट सर्विस के सिर्फ 4 करोड़ यूजर्स तक पहुंचे हैं।

WhatsApp भुगतान के सीमित उपयोगकर्ता

नवंबर 2020 में, एनपीसीआई ने व्हाट्सएप को मल्टी-बैंक मॉडल आधारित यूपीआई पेश करने की मंजूरी दी।

व्हाट्सएप को तब अधिकतम 20 मिलियन उपयोगकर्ताओं के साथ लॉन्च करने के लिए कहा गया था। एक साल बाद, एनपीसीआई ने संख्या को दोगुना करके 40 मिलियन करने की अनुमति दी।

द लाइव मिंट की एक रिपोर्ट के अनुसार, व्हाट्सएप 2018 से अपने बीटा मोड में केवल 1 मिलियन उपयोगकर्ताओं के साथ यूपीआई-आधारित भुगतान प्रणाली व्हाट्सएप पे चला रहा है।

इसका मुख्य कारण भारतीय रिजर्व बैंक की डेटा स्थानीयकरण नीति, यानी देश के भीतर डेटा केंद्र स्थापित करने की नीति थी।

व्हाट्सएप पॉलिसी के सभी नियमों और शर्तों को पूरा करने के बाद, एनपीसीआई ने रिजर्व बैंक को सूचित किया कि वह संतुष्ट है कि व्हाट्सएप ने डेटा स्टोरेज मानकों का अनुपालन किया है और सेवा को लाइव किया जा सकता है।

फ़ोन पे Google Pay से बहुत पीछे है

व्हाट्सएप के बहुत कम उपयोगकर्ता हैं और लेनदेन की संख्या बहुत कम रही है। मार्च की बात करें तो वॉट्सऐप पर 2.54 मिलियन ट्रांजेक्शन हुए, जिनमें से 239.78 करोड़ रुपये का ट्रांजैक्शन हुआ।

इसी अवधि के दौरान, Google पे पर 1.8 बिलियन भुगतान लेनदेन और PhonePay पर 2.5 बिलियन भुगतान लेनदेन हुए। अब, जैसे ही व्हाट्सएप अपनी सेवा का विस्तार करता है, दो प्रमुख प्लेटफॉर्म फोनपे और गूगलपे का आमना-सामना हो सकता है।

Click to rate this post!
[Total: 0 Average: 0]

Leave a Comment